सुधा मिश्र ।
समय सभके लेल एकेरंग छै। चौबिसो घण्टा एक सेकेन्ड नहि बेसी एक सेकेन्ड नहि कम।बात ई विशेष छै ज‌े के अकरा बेसी सँ बेसी सदुपयोग कसकै छै? अाई करोनाके राज छै तँ काल्हि नई छलै त‌ैयो समयके उवाह गति उवाह रफ्तार छलै।काल्हियो उवाह रहत‌ै।कोनाक कुन रंग सँ अकरा अपना अनुकुल बनासक‌ैछी सेलोकपर निर्भर करैछै। समय सभ सँ बलवान् छै।राजा हौक कि रंक,धनवान् हौक कि निर्धन,ज्ञानी हौक कि मुर्ख ,मानव हौक कि दानव, जानवर हौक कि चिर‌ैय सबलेल एक समान।
ई त बुझल‌े बात छै जे लकडाउनमे स्त्रीगणके व्यवस्ता बड बढिगेल छै। घरक काजधन्दामे अोझरायल रहैत छै।बुढ सँ लक बच्चाके सबटा फर्माइस पूरा कर परैछै।सभसँ बडका बातजे कोरोनाके चल्ते सरसफाइ आउर थपागेल छै।अतेक व्यवस्ताके बाबजुद सेह‍ो सहरमे लोकँक छतपर अदौरी – कुमरौरी खोटायल छै।तिस्यौरीअा तिलौरी खोटायल छै।चिप्स चरौरी सुखाइ छै।माइर रंगबिरंगक कोबीक सुखौटी,भंटाक सुखौटी,मुरैयक सुखौटी त कुमहरक सुखौटी सुखारहल छै।सागपातक बनल अरिकोच सुखारहल छै।कंच पातक बिरिया सुखारहल छै।छतभरि पसरल मिथिला – मधेसक इ विशेष सामग्री देखि मोन हर्षित भय उठैछै।अखुनका भयरहल लकडाउनमे नेपाल -भारतक बहुतो सिटीके बालकोनी अा छत मिथिला – मधेसक पारम्परिक सनेस सँ सजल छै।सभके इ दृश्य अपना दिस अाकर्शित कदैछ‌ै।मोनके मोहित कदैत छै।
घरेके अन्नपानी सँ बनबला इ समान बहुत सुअदगर अा सवास्थयवर्धक होइत छै।बुढ सँ लक बच्चा  तैक पसिनगर होइछइ।सभ तिरपित भय खाइत छ‌ै।अल्लु कुमरौरीके तरकारी अपनेमे विशिष्ट छै।अरिकोचके तरकारीके तँ शाकाहारी माछ कहल जाति छै।चाय सँग अगर चरौरी ,तिस्यौरी ,अल्लुक चिप्स अा तिलौरीके छानल भेटजाय तँ चायके मस्ती दुगुना भजाइ छ‌ै।एतबे कहाँ बेरमोकामे घरक भर्मा सेहो राखिदैत छै।धन्य अछि मिथिला – मधेसक स्त्री। नई छथि बिसरल अपन कला संस्कृति ।पृथ्वीके कुनो कोनामे किया नहि रहैत  निरन्तरता देने छथि अपन पाककलाके। अपन संस्कृत अा रिवाजके ।अगर कहल जाय जे अहि धरोहरके इहे सभ सम्हारने छथि तँ अहिमे कुनो दुमत नई।
सहरेमे नहि गामक चार पर सुपे चंगेरे पसरल छै अदौरी, कुमरौरी—— अरिकोच अा सुखौटी।काजुल केहनो परिस्थितिमे बैसल नहि रहिसकैय।सिर्जनात्मक काजमे लागले रहैछै।सिखबला बात छै मिथिला – मधेसक नारी सँ जे लकडाउन बाधा नहि बनी सकैय सिर्जनालेल।लकडाउन बाधक नहि भसकैय दुलार अा सिनेह परसलाय।लकडाउन बाधक नहि भसकैय बच्चाबुचीके पढलेल।लकडाउन बाधक नहि भसकैय हँसीखुशी बाँचलेल।ताय व्यर्थमे लकडाउनके अपन माथ द: खी नई बनाबी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here